शनिवार, 3 अप्रैल 2010

चलते-फिरते लोग देवता हो गए





मैंने एक गुनाह क्या किया कि दरो-दीवार भी आईना हो गए
तुम बुत के बुत ही रहे और चलते-फिरते लोग देवता हो गए
                                                 
                                                    रोहित "मीत"

2 टिप्‍पणियां: